कोशिका विज्ञान कोशिका के मुख्य अंग तथा उनके कार्य 

anatomy of a cell

कोशिका जीवन की सबसे छोटी कार्यात्मक और सरंचनात्मक इकाई है

 

  • कोशिका के प्रकार
  1. प्रोकैरियोटिक कोशिका
  2. यूकेरियोटिक कोशिका

कोशिका के मुख्य अंग तथा तथा उनके कार्य

1 . कोशिका भित्ति

 यह केवल पड़ाव कोशिका में पाया जाता हैं। 
                           यह सेलुलोज का बना होता है। 
                           यह कोशिका की निश्चित आकृति एवं आकर बनाये रखने में सहायक होता है। 
                           जीवाणु का कोशिका भित्ति peptidogy का बना होता है। 

2 . कोशिका झिल्ली

   कोशिका के सभी अवयव एक पतली झिल्ली के द्वारा घिरे रहते है, इस झिल्ली को कोशिका झिल्ली कहा जाता है यह अर्धपारगम्य झिल्ली होती है।  इसका मुख्य कार्य अंदर जाने वाले  एवं अंदर से बहार आने वाले पदार्थो का निर्धारण करना हैं।

3 . तारककाय

इसकी खोज बॉबेरी ने की थी।  यह एक केवल जंतु कोशिकाओं में पाया जाता है।  तारककाय के  अंदर एक या दो कणो जैसी संरचना होती है , जिन्हे सेन्ट्रियोल कहते है।  समसूत्री विभाजन में यह घ्रुव का निर्माण करता है

4 . अंत परद्रवी जालिका

एक और यह केंदरक झिल्ली से व् दूसरी और कोशिका कला से संबद्ध होता है।  इस जालिका के कुछ भागो पर किनारे किनारे छोटी छोटी कणिकाएं लगी रहती है।  जिन्हे राइबोसोम कहते है।  इसका मुख्य कार्य उन सभी वसाओं व प्रोटीनों का संचरण करना है , जो की विभिन्न  झिल्लिओ जैसे – कोशिका झिल्ली , केन्द्रक झिल्ली  आदि का निर्माण करते है। 

5. कोशिका द्रव्य 

केन्द्रक के अलावा कोशिका के जीवद्रव्य का समस्त भाग कोशिका द्रव्य कहलाता है।  कोशिका द्रव्य जीवद्रव्य  है जो केन्द्रक को चारो और से घेरे हुए रहता है।  

6 . केन्द्रक 

रॉबर्ट ब्राउन ने 1831 में कोशिका में केन्द्रक की खोज की।  यह कोशिका की समस्त जैविक क्रियाओ का नियमन करता है। केन्द्रक का आकर कोशिका के प्रकार एवं केन्द्रक के कार्य पर निर्भर करता है।  

7 . गुणसूत्र 

यह एक आनुवंशिक पदार्थ है।  इसमें आनुवंशिक गुणों को धारण करने वाली रचनाये पायी जाती है।  जिन्हे जीन ( सबसे छोटी इकाई ) कहते है।   क्रोमोसोम (गुणसूत्र ) की खोज वॉल्डेयर ने की।  जीवो में आनुवंशिक लक्षण संतान में क्रोमोसोम द्वारा ले जाये  है।  मानव में 44 गुणसूत्र अलिंग गुणसूत्र कहलाते है जबकि 2 गुणसूत्र लिंग गुणसूत्र कहलाते है।  नर तथा मादा में अलिंग गुणसूत्रों की संख्या समान होती है जबकि लिंग गुणसूत्र असमान होते है।  

8 . माइटोकॉन्ड्रिया 

यह प्रोकेरिओटिक कोशिकाओं एवं स्तन धरियो की परिपक्व लाल रक्त कणिकाओं को छोड़कर सभी पादप एवं जंतु कोशिकाओं में पाया जाता है।  इसको कोशिका का शक्ति गृह  है।

9 . लाइसोसोम 

 दुबे ने 1974 में लाइसोसोम की खोज की।   थेलिया कहते है। कोशिका के अंदर किसी बाह्य पदार्थ या बेक्टीरिया को नष्ट करते है।  लाइसोसोम को कोशिका की आत्मघाती थैली  है।  

10 .  राइबोसोम 

यह कोशिका का सबसे छोटा अंग है।  यह r-RNA 80 प्रतिशत भाग बनाती है।  इनको प्रोटीन का कारखाना तथा कोशिका ईंधन भी कहते है  

2 thoughts on “कोशिका विज्ञान, कोशिका के मुख्य अंग तथा उनके कार्य”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *